Nipah Virus in India – निपाह वायरस क्या है? लक्षण, यह कैसे फैलता है, कैसे बचें पूरी जानकारी

2

Nipah Virus in India– अभी हाल ही में केरल मैं एक 12 साल के बच्चे को निपाह वायरस पॉजिटिव पाया गया है जिससे उसकी मौत हुई है। यह खबर सुनते ही देश में खलबली सी मच गई है। अभी-अभी देश कोरोनावायरस के प्रकोप से उभरता आ रहा है ऐसे में इस निपाह वायरस ने अपनी दस्तक दे दी है। केरला में एक 12 साल के बच्चे में यह वायरस पाया गया है। इस बारिश का कोई भी इलाज नहीं है वह विशेषज्ञों का मानना है कि इस वायरस के संक्रमण होने से 40% से 50% लोगों की मृत्यु हो जाती है।

तो आइए जानते हैं निपाह वायरस क्या है इसके लक्षण क्या है और यह कैसे फैलता है एवं इस वायरस से बचने के क्या उपाय हैं विस्तार से-

निपाह वायरस क्या है | Nipah Virus kya hai

निपाह वायरस एक एक बहुत ही खतरनाक वायरस है इसका संक्रमण बहुत तेजी से फैलता है और इससे संक्रमित मरीज की मृत्यु तक भी हो जाती है एवं यह वायरस का चमगादड़ या फ्रूट बेड से फैलता है। आपको बता दें कि यह वायरस सबसे पहले मलेशिया के कम्पंग सुंगाई निपाह गांव में इस वायरस का सबसे पहले पता चला था। इसी कारण इस वायरस का नाम निपाह वायरस पड़ा। इसके बाद यह वायरस सिंगापुर देश में देखने को मिला और सन 2001 में भारत में कुछ लोग संक्रमित पाए गए और 2004 में बांग्लादेश में कुछ लोग संक्रमित पाए गए।

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा बताया गया कि यह वायरस चमगादड़ सूअर आदि ने पाया जाता है जो इंसानों में फैलता है यह बारिश बहुत ही खतरनाक है एवं इस बारिश की स्थिति लगभग 45 दिन है।

निपाह वायरस के लक्षण | Symptoms of Nipah Virus in Hindi

निपाह वायरस के लक्षण की बात करें जो कि विशेषज्ञों द्वारा बताए गए हैं निम्नलिखित हैं-

  • तेज बुखार आना
  • सिरदर्द
  • उल्टी और बेहोशी
  • सांस लेने में तकलीफ
  • दिमागी हालत खराब होना

निपाह वायरस कैसे फैलता है?

विशेषज्ञों द्वारा बताया गया है कि यह वायरस फ्रूट बैट और चमगादड़ में पाया जाता है और इसी से यह वायरस फैलता है। चमगादड़ जो भी फल खाते हैं। झूठे फलों में हो लाल लगी रहती है एवं लार के साथ ही निपाह वायरस रह जाता है एवं जो भी व्यक्ति झूठे फलों को खाता है उसे निपाह वायरस होने की बहुत अधिक संभावना है। एवं जो व्यक्ति चमगादड़ के संपर्क में यह वायरस हो सकता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की बात करें तो निपाह वायरस पालतू सूअर और जंगली सूअर में भी पाया जाता है एवं सूअर के संपर्क में आने से भी निपाह वायरस से संक्रमित हो सकते हैं।

निपाह वायरस से कैसे बचें?

  • सबसे पहले चमगादड़ के संपर्क में आने से बचें।
  • पेड़ से गिरे झूठे कतरे हुए फलों को बिल्कुल भी ना खाएं।
  • जो भी बाजार से फल लाएं उन्हें अच्छी तरह धोकर खाएं।
  • सूअर और सूअर पालने वालों के संपर्क में आने से बचें।
  • जिस व्यक्ति को तेज बुखार सिरदर्द आदि की समस्या हो रही है उस व्यक्ति के संपर्क में बिल्कुल भी ना आए।

Note- इस पोस्ट में जो भी जानकारी दी गई है वह किसी चिकित्सा परामर्श से नहीं दी गई है यह लेख केवल जानकारी मात्र के लिए लिखा गया है अधिक जानकारी के लिए चिकित्सा से संपर्क करें।

तो यह थी निपाह वायरस (Nipah Virus) के बारे में जानकारी आशा करते हैं कि इस पोस्ट में आपको कुछ जानने योग्य जानकारी लिखी होगी ऐसी ही स्वास्थ्य संबंधी जानकारी के लिए janyukti.com को फॉलो करते रहिए और इस लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर कर दीजिए ताकि वह भी इस बार इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकें।

2 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here